Tuesday, February 5, 2019

Omkareshwar Visiting Places

ओम्कारेश्वर के दर्शनीय स्थल 
गोविन्देश्वर मंदिर एवं गुफा
यह मंदिर ओंकारेश्वर मंदिर के प्रवेशद्वार के पास ही स्थित है।जगद्गुरु शंकराचार्य ने दीक्षा एवं योग लेख शिक्षा अपने गुरु गोविन्द भाग्वदपाद द्वारा ओंकारेश्वर में ही प्राप्त की थी।गोविन्देश्वर गुफा वही स्थान है जहाँ जगद्गुरु शंकराचार्य ने दीक्षा ग्रहण की थी।इसी स्थान पर गुरु गोविन्द भाग्वदपाद निवास करते थे तथा तप किया करते थे।
पंचमुखी गणेश मंदिर
ओंकारेश्वर में मुख्य मंदिर के पहले पंचमुखी गणेश मंदिर स्थित है। यहाँ गणेश जी की प्रतिमा स्वयंभू मानी जाती है। यह उसी पाषाण से निर्माण हुई है जिससे  श्री ओंकारेश्वर प्रकट हुए है। मूर्ति में २ मुख दायें २ मुख बाएं एवं १ मुख सामने की ओर है।श्रद्धालु ओंकारेश्वर से पहले यहाँ दर्शन करते हैं। 
महाकालेश्वर मंदिर
ओंकारेश्वर में मंदिर के नीचे से दूसरे तल पर श्री महाकालेश्वर मंदिर भी स्थित है।यहाँ श्री महाकालेश्वर ऊपर एवं श्री ओंकारेश्वर नीचे हैं।श्री महाकालेश्वर मंदिर में भक्तगण श्रद्धाभाव से पूजा पाठ करते हैं।महाकालेश्वर के दर्शन नहीं करेंगे तो ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग की यात्रा अधूरी मानी जाती है। 
ममलेश्वर मंदिर
ममलेश्वर मंदिर नर्मदा के दक्षिण तट पर स्थित है इसे अमरेश्वर के नाम से भी जाना जाता है। श्रद्धालु ओंकारेश्वर एवं ममलेश्वर दोनों जगह का दर्शन करते हैं। यह मंदिर प्राचीन वास्तु कला एवं शिल्पकला का अद्वितीय नमूना है।मंदिर की दीवारों पर अनेक महिम्न स्त्रोत उकेरे गए हैं।महारानी अहिल्या बाई होलकर इस मंदिर में पूजा पाठ किया करती थीं एवं तभी से आज तक होलकर ट्रस्ट  के पुजारी यहाँ पूजन करते हैं। मंदिर का देख भाल 'अहिल्याबाई खासगी ट्रस्ट’ द्वारा किया जाता है। यह मंदिर भारतीय पुरातत्व विभाग द्वारा संरक्षित स्मारक है। 
वृहदेश्वर मंदिर
यह मंदिर ममलेश्वर मंदिर के समीप स्थित है। यह मंदिर अत्यंत ही दर्शनीय है। इस मंदिर में २४ अवतारों की मूर्तियां स्थापित है।मंदिर में बहुत ही सुन्दर शिल्पकारी एवं नक्काशी की गयी है। 
गुरुद्वारा ओंकारेश्वर साहिब
श्री गुरुनानक देव जी महाराज अपनी भारत भ्रमण यात्रा के दौरान ओंकारेश्वर आये थे। इसी घटना की याद में सिख़ धर्मियो द्वारा यहाँ पर एक गुरुद्वारा का निर्माण किया गया  है।हिंदू एवं शिख समाज के श्रद्धालु यहाँ बड़ी श्रद्धा और आस्था से दर्शन करते हैं। 
अन्नपूर्णा मंदिर
अन्नपूर्णा मंदिर एक प्राचीन मंदिर है।मंदिर परिसर बहुत ही बड़ा है। मंदिर परिसर में सर्वमंगला मंदिर भी स्थित है जिसमे देवी लक्ष्मी, सरस्वती एवं पार्वती की मूर्ति विराजमान है।यहाँ ३५ फुट ऊँची भगवान कृष्ण की विशाल मूर्ति स्थापित है।

No comments:

Post a Comment

Thank you for comment