Saturday, October 12, 2019

Salasar Balaji Rajasthan Dharmsala Name and Address

Near Yashraj Hotel
Salasar, Churu - 331506, 
PH.NO.1568 252453 Mob.NO.9983084924

Chameli Devi Aggarwal Sewa Sadan
Laxmangarh Main Road,  Near Anjani Mata Mandir
Salasar, Churu - 331506,
PH.NO. 1568 272310

Sarv Sanjhi DharamsalaNear Anjani Mata Mandir, 
Salasar, Churu - 331506
Mob.NO.9152391052

Salasar Balaji Rajasthan Travel Guide In Hindi.

सालासर बालाजी स्थान
सालासर शहर राजस्थान में चूरू जिले का एक हिस्सा है और यह जयपुर बीकानेर  राजमार्ग पर स्थित है। यह सीकर से 57 किलोमीटर, सुजानगढ़ से 26 किलोमीटर, रतनगढ़ से 50 किलोमीटर और लक्ष्मणगढ़ से 30 किलोमीटर की दूरी पर है। सालासर शहर सुजानगढ़ पंचायत समिति के अधिकार क्षेत्र में आता है


सालासर बालाजी मंदिर का महत्व

भगवान हनुमानजी को समर्पित भारत में यह एकमात्र बालाजी का मंदिर है जिसमे बालाजी के दाढ़ी और मूँछ है। बाकि चेहरे पर सिंदूर चढ़ा हुआ है। पूर्णिमा के दिन यहां आने वाले सभी भक्तों की मुरादें पुरी होती हैं। लोग मंदिर में स्थित एक प्राचीन वृक्ष पर नारियल बांध कर अपनी मनोकामनाओं की पूर्ति की अभिलाषा करते है।

Wednesday, September 11, 2019

Kailash Mansarovar Yatra guide in hindi

कैलाश मानसरोवर यात्रा करने का सबसे अच्छा समय
इस पवित्र यात्रा करने का सबसे अच्छा समय मध्य मई से मध्य अक्टूबर के बीच है, क्योंकि इन दिनों में मौसम साफ और ठंड कम रहती है।दिन का तापमान सहनीय रहता है, लेकिन रात का तापमान शून्य से निचे चला जाता है।

कैलाश मानसरोवर सरकार द्वारा आयोजित यात्रा की प्रक्रिया -
1) यात्रा रजिस्ट्रेशन -भारत सरकार विदेश मंत्रालय द्वारा यात्रा रजिस्ट्रेशन की तारीख घोषित होने के बाद kmy.gov.in इस वेबसाइट पर जाकर यात्री को रजिस्ट्रेशन करना पड़ता है। 
2)यात्रा चयन की सूचना - यात्री का चयन होने पर ईमेल या मोबाइल के माध्यम से सूचित किया जाता है।
3) दिल्ली में रिपोर्ट करना - निर्धारित यात्रा कार्यक्रम के अनुसार यात्री को दिल्ली में उपस्थिति दर्ज करानी होगी।

Sunday, August 18, 2019

How to plan trip to Tirupati Rameshwaram ,Madurai ,Thiruvananthapuram together.

तिरुपति ,रामेश्वरम,मदुरई ,कन्याकुमारी ,तिरुवनंतपुरम एक साथ यात्रा कैसे करे -  
साऊथ में घूमने कोनसे महीने में जाना अच्छा रहेगा - अक्टूबर से फरवरी
साऊथ की यात्रा कितने दिनों की होगी -  8 दिन - इसमें आपके शहर से आने और जाने के दिन जोड़ ले।

यात्रा का शिड्यूल
यात्रा की शुरुआत 
तिरुवनंतपुरम से होगी।तिरुवनंतपुरम से कन्याकुमारी। कन्याकुमारी से रामेश्वरम ।रामेश्वरम से मदुरै और मदुरै से तिरुपति। तिरुपति में यात्रा की समाप्ति होगी।

Saturday, August 3, 2019

Sabarimala Temple Keral travel guide and Mandal Vratam In HIndi

सबरीमाला मंडल व्रत के नियम और विधि
केरल के सबरीमाला अयप्पा मंदिर में मनाई जाने वाली मंडला पूजा एक महत्वपूर्ण अनुष्ठान है। अय्यप्पा भक्त जो सबरीमाला मंदिर जाना चाहते हैं, वे व्रतम का पालन करते हैं। भक्त 41 दिनों का व्रत रखते है। मंडल व्रतम का मुख्य उद्देश्य मन और आत्मा को शुद्ध करना है।मंडल व्रत की शुरुवात मलयालम महीने वरिकम में शुरू होता है और धनू महीने के मध्य

Sunday, July 21, 2019

Amarnath yatra & Vaishno devi yatra का मेरे अनुभव कैसे रहा

15 जून 2019 वो दिन था। ऐसे ही बैठा था। अचानक  मेरे मन में अमरनाथ यात्रा जाने का विचार आया। मैंने रेलवे की वेबसाइट पर चेक किया। मेरे शहर से जम्मू जाने के लिए रिजर्वेशन उपलब्ध था। जम्मू एंड कश्मीर बैंक में गया।नजदीक के कोनसे तारीख का यात्रा परमिट मिल सकता है पूछा। 6 जुलाई का कोटा ओपन था।मैंने बैंक से ब्लेंक यात्रा रजिस्ट्रेशन फॉर्म और हेल्थ सर्टिफिकेट लिया।सिविल हॉस्पिटल में गया और एक वॉर्ड से दूसरे वार्ड ऐसे आठ वार्ड के चक्कर काटने के बाद मुझे दूसरे दिन हेल्थ सटिफिकेट प्राप्त हुवा। जम्मू एंड कश्मीर बैंक में फॉर्म और हेल्थ सर्टिफिकेट सबमिट करने के बाद मुझे 6 जुलाई 2019 बालटाल मार्ग से जाने का यात्रा परमिट मिला। पहले मै  2017 को बालटाल मार्ग से अमरनाथ यात्रा कर चूका था।इस साल पहलगाम मार्ग से जाने की बड़ी इच्छा थी।लेकिन मेरे पास समय की कमी थी। इसलिए मुझे बालटाल मार्ग का ही यात्रा परमिट लेना पड़ा। मैंने एक कागज पर अमरनाथ यात्रा की योजना बनायीं। योजना के अनुसार रेलवे के आने और जाने के टिकेट बुक कर लिए। 

Thursday, June 27, 2019

How much does it cost to travel in Amarnath yatra

अमरनाथ यात्रा बालटाल मार्ग से कितना खर्च(अनुमानित) आता है।
(भोजन और खच्चर का खर्चा छोड़कर रकम दी है। भोजन सभी जगह मुक्त में मिलता है )
यात्रा का पहला दिन (जम्मू)
जम्मू रेलवे स्टेशन से भगवती नगर     70.00
पानी बोतल -2                                50.00 
AC हॉल किराया                             50.00
गद्दा ,कंबल                                    60.00
बालटाल बस किराया (Govt.)           550.00 
अन्य खर्चा                                   100.00 
                                                ---------
                                                 880.00 


Saturday, June 15, 2019

Murudeshwara Mythology In Hindi

मुरुदेश्वर पौराणिक कथा
रावण की माँ प्रति दिन सागर किनारे मिटटी का शिवलिंग बनाकर अभिषेक और पूजा करती थी।समुद्र के पानी से शिवलिंग हर दिन नष्ट हो जाता था।रावण यह दृश्य हर दिन देखता था। एक दिन रावण ने अपनी माँ से पूछा क्यू इस मिटटी के शिवलिंग की पूजा करती हो। रावण की माँ ने कहा मरने के बाद मुझे कैलास में स्थान मिलेगा। रावण ने अपनी माँ से

Murudeshwar Karnataka Travel Guide and Visiting places

मुरुदेश्वर पौराणिक कथा 
मुरुदेश्वर कैसे पहुंचे -
हवाई मार्ग

मैंगलोर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा मुरुदेश्वर से लगभग 153 किमी दूर है। यह देश के सभी प्रमुख शहरों जुड़ा हुआ है और विदेशों में भी  कुछ उड़ाने भरी जाती है। मुरुदेश्वर पहुंचने के लिए हवाई अड्डे से टैक्सियाँ उपलब्ध हैं।

Sunday, May 12, 2019

Muktinath Nepal Complete Travel Guide In Hindi

मुक्तिनाथ मंदिर जाने का सबसे अच्छा समय
सितंबर, अक्टूबर और नवंबर

यह नेपाल में पीक सीजन है, न तो बहुत ठंडा और न ही बहुत गर्म। मौसम साफ रहता है। नीले आकाश में बर्फ से ढके पहाड़ों के शानदार दृश्य दिखाई देते है। 
मार्च, अप्रैल और मई
तापमान सामान्य रहता है। नेपाल का राष्ट्रीय फूल रोडोडेंड्रोन (hododendrons) इस मौसम में पूरी तरह से खिलता है और पहाड़ के दृश्य बहुत ही सुन्दर दिखते हैं।

Sunday, April 21, 2019

Top Best Places to Visit in Nepal in Hindi

काठमांडू घाटी के दर्शनीय स्थल

पशुपति नाथ मंदिर
थमेल से पशुपतिनाथ मंदिर की दुरी - 4 km

काठमांडू में सबसे महत्व पूर्ण स्थान पशुपति नाथ जी का मंदिर है।यह मंदिर बागपति नदी के किनारे स्थित है। पशुपतिनाथ मंदिर यूनेस्को विश्व सांस्कृतिक विरासत में शामिल है। पशुपतिनाथ भगवान शिव का ही एक रूप है।यह सिर्फ धार्मिक स्थल के रूप में ही नहीं बल्कि सांस्कृतिक स्थल के रूप में भी प्रसिद्ध है। देश विदेश से काफी संख्या में पर्यटक यहां आते हैं। इस मंदिर में सिर्फ हिन्दुओ को ही प्रवेश दिया जाता है।गैर हिंदू पर्यटक इस मंदिर का दर्शन दूर से बागमति नदी के दूसरे किनारे से कर सकते हैं।

Sunday, March 31, 2019

Pashupatinath Temple Kathmandu Nepal

पशुपतिनाथ मंदिर
पशुपतिनाथ मंदिर नेपाल की राजधानी काठमांडू से तीन किलोमीटर दूर देवपाटन गांव में बागमती नदी के किनारे स्थित है। यह मंदिर यूनेस्को विश्व सांस्कृतिक विरासत स्थल की सूची में शामिल है। पशुपतिनाथ मंदिर का ज्योतिर्लिंग चतुर्मुखी है। पशुपतिनाथ ज्योतिर्लिंग में चारों दिशाओं में एक मुख और एकमुख ऊपर की ओर है। प्रत्येक मुख के दाएं हाथ में रुद्राक्ष की माला और बाएं हाथ में कमंदल धारण किया है | ये पांचों मुख अलग-अलग गुण दर्शाते हैं। दक्षिण दिशा के मुख को अघोर मुख कहा जाता है, पश्चिम दिशा की ओर के मुख को सद्योजात, पूर्व दिशा के मुख को तत्वपुरुष और उत्तर दिशा की ओर के मुख को वामदेव या अर्धनारीश्वर कहा जाता है।ऊपर की ओर के मुख को ईशान मुख कहा जाता है।


Saturday, March 30, 2019

How to reach Nepal kathmandu from India

भारत से नेपाल जाने के लिए इस्तेमाल किये जाने वाले बॉर्डर
सुनौली बॉर्डर (उत्तर प्रदेश )

उत्तर भारत से नेपाल की ओर जाने वाले अधिकांश लोग सुनौली बॉर्डर से होकर नेपाल के भैरहवा तक जाते हैं। उत्तर प्रदेश के गोरखपुर से यहाँ आसानी से पंहुचा जा सकता है। यह भारत की सबसे बड़ी और व्यस्ततम सीमा है।नेपाल भैरहवा से काठमांडू, पोखरा और लुंबिनी के लिए बस सेवा उपलब्ध हैं।

Thursday, February 14, 2019

Dwarka Gujarat Dharamshala

Kokila Dhiraj Dham
Hospital Road, Dwarka Town,
Opposite Income Tax Office
Dwarka-Gujarat - 361335

Maheshwari Bhavan
Aaditya Road, Dwarka Town,
Dwarka-Gujarat - 361335

Nageshwar Jyotirlinga Complete Travel Guide In Hindi

नागेश्वर ज्योतिर्लिंग परिचय
नागेश्वर ज्योतिर्लिंग गुजरात राज्य के जामनगर जिले में प्रसिद्ध तीर्थ स्थान द्वारका धाम के समीप स्थित है। द्वारका से नागेश्वर की दुरी लगभग 18 किलोमीटर है।नागेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर ओखा तथा द्वारका के बीचोबीच स्थित है। भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिंगों में से दसवें स्थान पर है। 

Tuesday, February 5, 2019

Omkareshwar Visiting Places

ओम्कारेश्वर के दर्शनीय स्थल 
गोविन्देश्वर मंदिर एवं गुफा
यह मंदिर ओंकारेश्वर मंदिर के प्रवेशद्वार के पास ही स्थित है।जगद्गुरु शंकराचार्य ने दीक्षा एवं योग लेख शिक्षा अपने गुरु गोविन्द भाग्वदपाद द्वारा ओंकारेश्वर में ही प्राप्त की थी।गोविन्देश्वर गुफा वही स्थान है जहाँ जगद्गुरु शंकराचार्य ने दीक्षा ग्रहण की थी।इसी स्थान पर गुरु गोविन्द भाग्वदपाद निवास करते थे तथा तप किया करते थे।

Omkareshwar Mandhata parvat Prikrama ओंकारेश्वर मांधाता पर्वत परिक्रमा

ओंकारेश्वर परिक्रमा
ओंकारेश्वर में भक्तगण कामनापूर्ति के लिए नर्मदा जल लेकर मान्धाता पर्वत की परिक्रमा करते हैं। यह परिक्रमा करीब ७ किलोमीटर की परिक्रमा है।परिक्रमा करने में चार से पांच घंटो का समय लगता है।

Omkareshwar Jyotirlinga Complete Travel Guide in Hindi

ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग
ओंकारेश्वर मध्य प्रदेश के खंडवा जिले में स्थित है। यह नर्मदा नदी के तट पर मन्धाता नामक द्वीप पर स्थित है। यहां पर नर्मदा नदी ॐ के आकार में बहती है। इस कारण इसे ओंकारेश्वर नाम से जाना जाता है।यह भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिंगओं में से एक है और चौथे स्थान पर है। ओंकारेश्वर अन्य द्वादश ज्योतिर्लिंगों से अलग है क्योंकि यहां भगवान शिवजी दो रूपों में विराजमान हैं एक ओंकारेश्वर और दूसरे ममलेश्वर। दो रूपों में स्थित होने पर भी ज्योतिर्लिंगों की गणना में यह ज्योतिर्लिंग एक ही गिना जाता है।

Wednesday, January 9, 2019

Trimbakeshwar Bhakt Niwas ,Dharmshala, Ashram

Gajanan Maharaj Trust Bhakt Niwas
Jawahar Road
Trambakeshwar ,Nashik


Shiv Prasad Bhakt Niwas
Mahadevi road,
Infront of Nutan trambak Vidyalaya,
Trimbakeshwar

MTDC Sanskruti Holiday Resort (Maharashtra Govt.)
Ghoti Trimbak Road, Near Nivruttinath Mandir,
Trambakeshwar, Nashik

Shri Gagangiri Maharaj Ashram
Sant Nagari, Near S.T. Bus Stand
Sant Nivrutinath Nath Mandir Road
Trambakeshwar,Nashik

Maheshwari Bhakt Niwas
Main Road Trambakeshwar, Nashik

Hraydeshwar Bhakta Niwas
Opp. Shree Nivruttinath Mandir
Trambakeshwar,Nashik

Lokhanwala Dharamshala
Near Laxminarayan Chawk Near Tribakeshwar Mandir
Trimbakeshwar, Nashik

Shree Kshatriya Ahir Shimpi Samaj Dharamshala
185, Kushavant Tirth, Behind Trimbakeshwar Temple
Trimbakeshwar, Nashik

Trimbakeshwar Complete Travel Guide In Hindi

त्र्यंबकेश्वर कैसे पहुंचे
हवाई मार्ग
त्र्यंबकेश्वर का निकटतम हवाई अड्डा महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में स्थित है। त्र्यंबकेश्वर से लगभग 200 किमी दूर है।नाशिक के नजदीक ओजर एयरपोर्ट बना है। यहाँ से मुंबई और पूना के लिए हवाई सेवा उपलब्ध रहती है। लेकिन हवाई कंपनी द्वारा निरंतर सेवा दी नहीं जाती।
रेल मार्ग
त्र्यंबकेश्वर का नजदीकी रेलवे स्टेशन नासिक रोड है।नासिक देश के अन्य हिस्सों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। मुंबई जाने वाली सभी ट्रेने नासिक रोड रेलवे स्टेशन से गुजरती है।