Friday, March 23, 2018

हल्दी वाला दूध सेवन के फायदे

हल्दी को आयुर्वेद में  चमत्कारिक और महत्वपूर्ण औषधि माना गया है। हल्दी की एंटीबायोटिक्स प्रॉपर्टीज़ और दूध में मौजूद कैल्शियम जब ये दोनों एक साथ मिलते हैं तो हल्दी दूध के गुण और भी बढ़ जाते हैं और उसका असर दोगुना हो जाता है। हल्दी दूध को गोल्डन मिल्क भी कहा जाता है।इन्हें एक साथ पीने से कई स्वास्थ्य संबंधित समस्याएं का निवारण होता  हैं। हल्दी वाला दूध सेवन करने के कई लाभ होते है, ऐसे ही कुछ लाभों को हम आपको बतायेंगे ताकि आप हल्दी के दूध के सेवन से मिलने वाले लाभ से परिचित हो सके। 

सर्दी जुकाम में असरदार

सर्दि के मौसम में सर्दी जुकाम की परेशानी सभी को होती है। हल्दी वाले दूध में एंटीबायोटिक और एंटीवायरल गुण के कारण सर्दी ,खाँसी ,गले की खराश से तुरंत राहत मिलती है। रात को सोते समय पिने से जल्द असर दिखता है।खास कर सूखी खांसी होने पर ये काफी कारगर साबित होता है।

त्वचा विकार के लिए

हल्दी दूध पिने से खून साफ होता है। शरीर में मौजूद विषेले पदार्ध बाहर  निकलते है त्वचा चमकदार बनती है। 

जख्म भरने में मददगार

हल्दी में एंटी बैक्टीरियल होती है। इस कारन चोट चाहे बाहरी हो या अंदरूनी जख्म में बैक्टीरिया नहीं पनपने देती और जख्म जल्दी भर जाता है। 

अस्थमा के बीमारी में लाभकारी

अस्थमा के कारन थोड़ा भी काम करे तो साँस फूलने लगती है। श्वास नली में कफ जम जाता है और खाँसी आती है। हल्दी का दूध शरीर में गरमाहट लाता है। जिससे फेफड़े में जकड़न से राहत मिलती है। रात सोने से पहले हल्दी वाला दूध पिने से कफ बाहर निकलने में आसानी होती है।

हड्डियों को ताकदवर बनाये

दूध और हल्दी में कैल्सियम की मात्रा बहुत ज्यादा होती है। हल्दी का दूध पिने से हड्डिया मजबूत होती है और जोड़ो का दर्द भी कम होता है। 

अनिद्रा का दोष दूर करे 

बहुत सारे लोगोको रात को नींद नहीं आती है। अगर छ से आठ घंटे की नींद पूरी नहीं होती है। तो बहुत सारी बीमारिया होने लगती है।हल्दी शरीर को तनावमुक्त करके आराम पहुँचाती है। हल्दी के दूध में ट्रिप्टोफैन नामक अमीनोअम्ल बनता है जो शक्तिवर्धक और नींद के चक्र को संतुलित बनाकर पर्याप्त गहरी नींद आने में उपयोगी सिद्ध होता है।सोने से पहले हल्दी वाला दूध के सेवन से अच्छी नींद आएगी।

मधुमेह की बीमारी में फायदेमंद

हल्दी दूध के सेवन से इन्सुलिन और ग्लूकोज को निंयत्रित करता है और बढ़ी हुई शुगर कम करता है।

लिवर को स्वस्थ रखे

हल्दी का दूध लिवर को प्राकृतिक तरीके से स्वस्थ रखने का काम करता है।रक्त को शोधित करके विषमुक्त करता है। लिवर को मजबूत बनाता  है।

कैन्सर से बचाव 

हल्दी वाला दूध सेवन करने से फेफड़े ,स्तन,त्वचा ,प्रॉस्ट्रेट ,बड़ी आँत के कैन्सर को रोकता है। कैसर को बढ़ने नहीं देता और कीमोथेरेपी के दुष्परिणामों को कम करता है। 

गठिया से सबंधित समस्याओ में

हल्दी वाले दूध से गठिया के कारन सूजन दूर करने के लिए उपयोग किया जाता है।हल्दीदूध जोड़ो और पेशियों को लचीला बनाकर दर्द कम करता है। 

रक्त के शोधक और शुद्धि

हल्दी का दूध अशुद्ध रक्त को शुद्ध करता है। यह रक्त परिसंचरण को मजबूत बनाता है और रक्त वाहिकाओं की गन्दगी को साफ करता है।

पाचन बेहतर होने में मददगार

हल्दी का दूध से पाचन बेहतर होता है।एन्टी सेप्टिक गुणों के कारन अल्सर ,कोलाइटिस को ठीक करता है और डायरिया और अपच नहीं होता।

वजन नियत्रित करने में उपयोगी

हल्दी वाले दूध को पीने से शरीर में जमी अतिरिक्त चर्बी घटती है। इसमें मौजूद कैल्शियम और मिनिरल और अन्य पोषक तत्व वजन घटाने में मददगार  होते है।

कान के दर्द में उपयोगी 

अगर कान में दर्द हो तो हल्दी के दूध के सेवन से शरीर में रक्त संचार बढ़ जाता है और कान का दर्द शीघ्र ही कम हो जाता है।

मासिक धर्म का दर्द दूर करे

हल्दी का दूध महिलाओ के मासिक धर्म के दौरान होने वाली पीड़ा को कम करता है। महिला के प्रसूति के बाद हल्दी दूध का सेवन करे तो शीघ्र रिकवरी होती है। 

रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाये

हल्दी वाला दूध सेवन करने से शरीर की इम्युनिटी बढ़ती है। जिन लोगोको अक्सर इन्फेक्शन से संबंधित बिमारिया हो जाती है खासकर बच्चे जिन्हें बुखार, जुकाम जैसी बीमारियाँ जल्दी लपेटे में लेती है उन्हें हल्दी दूध का सेवन करने से उनमे रोग प्रतिरोधक शक्ति जल्दी बढ़ती है। 

No comments:

Post a Comment

Thank you for comment